ऑफर्स वर ऑफर

३००० रु च्या पुढील सर्व खरेदीवर १० टक्के सूट.

3000 ऐवजी भरा फक्त २७०० रु '

४००० ऐवजी भरा फक्त ३६०० रु

फसलको कब है अरेना चोकलेट की जरूरत?

फसलको कब है अरेना चोकलेट की जरूरत?

किसान जब खेतोमे सिचाई कर संतुलित खाद की मात्र देते है,फसल की वृधि में इजाफा आता है. जडो द्वारा आते खाद की मात्रा से पौध की काया, पत्ते कोमल, हरे तथा रसमय हो जाते है. यह कोमलता तथा रसमयता किट तथा फफूंद को आकर्षित करती है. फफूंद,बैक्टीरिया, कीट तथा किट के माध्यम से फैलने वाले व्हायरस फसल पर आक्रमण करना शुरू कर देते है. फसल की अन्ध्रुनी शक्ति इन शत्रुओका प्रतिकार करना शुरू करती है. बीमारी फ़ैलाने वाले विविध जीव सामूहिक शक्ति का प्रयोग शुरू कर देते है. निसर्ग का यही चक्र है. एक जिव पर दूसरा निर्भर है. जिसमे प्रतिकार क्षमता अधिक है वही अपना जीवनचक्र पूरा कर पाता है.पौध में अगर प्रतिकार क्षमता है तो वह रोगकारक जीवोंको बढने नही देता, तो कुछ रोगकारक जीव पौध की प्रतिकार शक्ति का दमन करते है.

पाटिल बायोटेक द्वारा निर्मित अरेना चोकलेट यह उत्पादन पौध में रोगजंतुओं व् कीटोद्वारा होने वाले प्रतिकार क्षमता के दमन को रोखता है. जिस तरह नन्हे शिशुके रक्षा हेतु उसे टिका दिया जाता है, जीवन में यशप्राप्ति हेतु "यज्ञ व् मंत्रोच्चार" से कुंडलिनी को जागृत किया जाता है, उसी तरह, फसल की रोगप्रतिकार क्षमता को सचेत कर जागृत रखने हेतु फसलपर अरेना चोकलेट का छिडकाव करे.

जब आप संतुलित खाद की मात्रा दे, १६ लिटर के स्प्रे पंप मे एक अरेना चोकलेट का घोल बनाकर डाल दे व् छिड़काव करे. इस छिड़कावको २० से २५ दिन में दोहराए.

अरेना के छिडकावसे फसल की प्रतिकार क्षमता बढती है. इसका दूसरा मतलब यह है के सूरजकिरण से जो उर्जा पौध में उत्पन्न होती है उसका एक मुख्य हिस्सा फसल की प्रीतिकर क्षमता को तंदुरुस्त करनेहेतु खर्चा हो जाता है. अतः आप जब भी अरेना का छिडकाव करे, खाद की सतुलित मात्रा जरुर दे जिससे पौध फुल ओर फलो के विकास के लिए अतिरिक्त उर्जा का निर्माण कर पाए.

पपीता, टमाटर, भिन्डी, मिर्च, तरबूज, खरबूज, ककड़ी, केले, कोफ़ी, गन्ना व् फुलोके अनेक किस्मोमे इस छिडकाव से लाभ होने का पता चला है. आप जो भी फसल लगाए, इसको आजमाए.

अरेना विविध श्रोतोसे प्राप्त सामुग्री का एक विशेष मिश्रण है, जो रोग जीवाणु तथा कीटोद्वारा फोधे के प्रतिकार क्षमता के दमन को रोखता है. अरेना में कायटिन, पेप्टिडोग्लायकन के मोनोमर; नॉन-रायबोज्होमल प्रथिन, नैसर्गिक आयर्न चिलेटर तथा कुछ मिनरल है.

नीचे अरेना कि खरीद के लिये लिंक है जीससे ऑनलाईन खरीद कियी जा सकती है. 

 

 

गाजर उत्पादन व्यवस्थापन
गाजर उत्पादन व्यवस्थापन
गाजराला थंड हवामान मानवते. 15-20 अंश तापमानात उगवलेली गाजरे रंगाने आकर्षक व चवीला गोड असतात तर १८...
Read More
उन्हाळी मुग व्यवस्थापन
उन्हाळी मुग व्यवस्थापन
हे पिक कुणी निवडावे? जर पाणी उपलब्ध असेल तर कमी कालावधी (६०-६५ दिवस) चे पिक म्हणुन मुगाची निवड क...
Read More
सोयाबीन पिकाचे खत व फवारणी व्यवस्थापन
सोयाबीन पिकाचे खत व फवारणी व्यवस्थापन
बीज प्रक्रिया एकरी २५-३० किलो बियाणे लागते. बीज प्रक्रीये साठी ह्युमॉल जेली ५०० ग्राम + बुरशीनाशक...
Read More
मका पिकाचे खत व फवारणी व्यवस्थापन
मका पिकाचे खत व फवारणी व्यवस्थापन
 मक्याची लागवड वर्षातून तीन वेळा करता येते. पावसाळी लागवड मध्य जून ते मध्य जुलै, रब्बी लागवड मध्य...
Read More
टरबुज खरबुज लागवडीची पुर्वतयारी
टरबुज खरबुज लागवडीची पुर्वतयारी
शेतकरी मित्रहो, सदर लेख "पाटलांचा फळा" या आमच्या नियमित प्रसारित होणाऱ्या तात्कालिक युट्युब व्हिड...
Read More
हंगामानुसार कांदा बीजोत्पादन वेळापत्रक
हंगामानुसार कांदा बीजोत्पादन वेळापत्रक
खरिपातील जातींचे बीजोत्पादन : खरिपातील जातींचे कांदे ऑक्टोबर-नोव्हेंबर महिन्यात तयार होतात. या का...
Read More
पपई-मैलाचा दगड फेसबुक लाइव मधील महत्वाचे मुद्दे
पपई-मैलाचा दगड फेसबुक लाइव मधील महत्वाचे मुद्दे
पाटील बायोटेकचे फेसबुक लाइव हा दर शनिवारी सा. ६ वाजता होणारा कार्यक्रम शेतकरी व कृषीकेंद्र धारकां...
Read More
हळदीवरील करप्याचे नियंत्रण
हळदीवरील करप्याचे नियंत्रण
शेतकरी मित्रहो, सदर लेख "पाटलांचा फळा" या आमच्या नियमित प्रसारित होणाऱ्या तात्कालिक युट्युब व्हिड...
Read More
Back to blog

युट्यूब